• .

  • .

  • .

  • .

  • .

  • .

  • .

  • .

Copyright 2021 - - हल्द्वानी नगर निगम। सभी अधिकार सुरक्षित। | स्वास्तिक सॉफ्टवेयर एंड आई० टी० सर्विसेस द्वारा संचालित।

Budget 2017-18

Balance Financial Opening 2012-13

Balance Financial2 2012-13

Balance Financial3 2012-13

Balance Financial 2013-14

Balance Financial 2014-15

Balance Financial 2015-16

Balance Financial 2016-17

Balance Financial 2017-18

 

Balance Financial 2015-16

cap1

First Underground Waste Bin in Haldwani at Uttarakhand by Nagar Nigam Haldwani

 

स्वच्छ भारत अभियान नगर निगम हल्द्वानी

 

स्वच्छ भारत अभियान नगर निगम हल्द्वानी का सम्पूर्ण विवरण के लिएpdf

 

     
img img img

poster

हल्द्धानी शहर कुँमाऊ का प्रवेश द्धार होने के कारण अपना अति विशिष्ट स्थान इसलिए भी रखता हैं, क्योंकि कुँमाऊ के सभी पर्यटक स्थलों जैसे - सरोवर नगरी नैनीताल, कौसानी, पिथौरागढ़ आदि को जानें वाले देश-विदेश के सैलानी यही से होकर जाते हैं।  इस प्रकार जनपद  सफाई एवं हरियाली की तस्वीर यही से परिलक्षित होती हैं, इसलिए सम्पूर्ण जनपद में स्वछता सफाई एवं क्लीन एवं ग्रीन का सपना तभी साकार हो सकता हैं जब इसे सहभागिता के साथ संचालित किया जाय।
ग्रीन हल्द्धानी-क्लीन हल्द्धानी कार्यक्रम का शुभारम्भ दिनांक 16 जुलाई 12 को माननीय वित्रमंत्री , उत्तराखण्ड शासन श्रीमती (डा०) इन्दिरा हृदयेश दवारा काठगोदाम इण्टर कॉलेज के मैदान मेंIMG 20150805 103412f किया गया, इस दिन नगर में नियोजित एवं योजनावृद्ध तरीके से वृक्षारोपण किया गया साथ ही आवास विकास कॉलोनी से डोर टू डोर कूड़ा एकत्रीकरण का कार्य भी प्रारम्भ किया गया। वर्तमान में मेयर हल्द्धानी दवारा नैनीताल रोड स्थित पार्को को "एन. जी.ओ." के माध्यम से हरा भरा बनाने हेतु बोर्ड में प्रस्ताव पारित करवाकर ,oa le;≤ ij fo'ks"k lQkbZ vfHk;ku pykdj इस अभियान को विशेष गति प्रदान की है।

कुमाऊँ का प्रवेश दुवार हल्द्धानी अपनी ऐतिहासिक, सांस्कृतिक एवं प्रगतिशीलता के चलते उत्तराखंड व विश्व के मानचित्र में अपनी अलग पहचान को बनाये हुए है। सन 1857 के स्व्तंत्रता संग्राम से लेकर पृथक उत्तराखण्ड राज्य हेतु किये गए प्रयासों में हल्द्धानी नगर के बुद्धिजीवियों, वीरों व स्वतंत्रता सेनानियों की विशिष्ट भूमिका रही है। हल्द्धानी शहर का विकास तीव्र गति से हुआ, ४० के दशक में यहाँ की जनसंख्या मात्र लगभग 12 हजार मात्र थी जो कि वर्तमान में लगभग 1.54 लाख हो गयी हैं।  जनसंख्या वृद्धि के साथ-साथ नगरीकरण एवं शहरीकरण का विकास भी तेजी के साथ हुआ है। यातायात सुविधाओं, चिकित्सा सुविधाओं, उच्च व तकनीकी शिक्षा की बड़ती मांग एवं रोजगार की तलाश में सीमान्त राज्यों से आये लोगो के कारण व पहाड़ी क्षेत्रों से हो रहे पलायन के कारण हल्द्धानी शहर दिन प्रतिदिन कंकरीट के जंगल में तबदील हो रहा है। हल्द्धानी शहर में विकास की कई सम्भावनाये बढ़ी है पर इससे हल्द्धानी शहर की शांति व सुंदरता पर भी कुंठाराघात हुआ है।
कुमाऊँ का व्यवसायिक व व्यपारिक केन्द्र होने के कारण यहाँ के छोटे-छोटे बाज़ारों ने व्यापक रूप ले लिया है, जहा पर दैनिक आवश्कताओं की वस्तुओ से लेकर सभी छोटी-बड़ी आवश्कताओं की वस्तुए उपलब्ध हैं। स्वास्थ्य सम्बन्धित, यातायात सुविधाओं एवं होटल व्यवसाय से जुडी सभी सुविधायें यहाँ 24 घंटे उपलब्ध रहती हैं।

f t g

हमारा इतिहास

हल्द्वानी शहर की स्थापना वर्ष 1834 में ट्रेल द्वारा की गयी थी इस शहर की समुद्र सतह से ऊचाई 1391 फिट है। हल्द्वानी  को नगर पालिका परिषद हल्द्वानी कम काठगोदाम को सन् 1904 में नोटिफाईड ऐरिया घोषित किया गया। वर्ष 1942 में  नोटिफाईड ऐरिया से तृतीय श्रेणी की पालिका घोषित की गयी, सन 1956 में द्वितीय श्रेणी व 1966 में प्रथम श्रेणी की नगर पालिका

नगर निगम कार्यालय - हल्द्वानी

-मेल: haldwaninagarnigam@gmail.com 

Fax No.05946-221512

हल्द्वानी, उत्तराखंड 263,139